June 19, 2024
ट्रेंडिंगताजा ख़बरेंराष्ट्रीय

arun yogiraj की बनाई मूर्ति पर बनी सहमति

अयोध्या में राम मंदिर में कौन सा विग्रह रखा जाएगा इस पर चल रहा संशय समाप्त हो गया है और अब तय है कि नीलवर्ण की उस मूर्ति को स्थ्ळाान मिलेगा जो कर्नाटक के कलाकार योगी अरुणराज ने बनाई है. मंदिर में स्थापना से पूर्व चयन के लिए तीन मूर्तियां बनवाई गई थीं जिनमें से एक को गर्भगृह में जगह दी जानी थी और इसके लिए नीले पत्थर से बनी है. इसी पत्थर की एक अन्य दक्षिण भारतीय शैली की मूर्ति भी चयन के लिए रखी गई थी वहीं तीसरा विग्रह सफेद संगमरमर से बनाया गया. सभी सदस्यों ने लिखित रूप से रामलला की इस 51 इंच लंबी प्रतिमा पर सहमति जताई. इसमें रामलला 5 साल के बाल स्वरूप में हैं और खड़े हुए हैं. यह मूर्ति कमल के फूल पर स्थापित की जाएगी तब कमल सहित पूरी ऊंचाई आठ फीट हो जाएगी. जिन तीन मूर्तिकारों को काम सौंपा गया था उनमें योगीराज के अलावा गणेश भट्ट और सत्यनारायण पांडे भी थे, इनमें सत्यनारायण पांडे की प्रतिमा संगमरमर पर है. बताया गया है कि बाकी दो मूर्तियां भी स्थापित होंगी लेकिन मामला गर्भगृह की मूर्ति के चयन का था. अब अन्य दो मूर्तियों में से एक पहले तल पर राम दरबार में स्थापित होगी जबकि तीसरी मूर्ति को द्वितीय तल पर होगी.