April 25, 2024
देश दुनिया

‘फेम3’ के लक्ष्य और बड़े होंगे

ई और वैकल्पिक ईंधन वाले वाहनों को बढ़ावा देने के लिए बने फेम के दो चरण 2024 में पूरे हो जाएंगे। हाइब्रिड और ई वाहनों की स्वीकार्यता को लेकर सरकार ने तीसरे चरण को फेम-3 नाम दिया है लेकिन यह नाम बदला भी जा सकता है क्योंकि इसके लक्ष्य और दायरे में बढ़ोतरी होना तय है। इसके तहत सभी ई वाहनों के अलावा भी जो ग्रीन विकल्प मौजूद हैं उन्हें बढ़ाने के लिए आर्थिक सहायता पर काम किया जाएगा। यानी इसमें हाइड्रोजन सहित अन्य वैक​ल्पिक ईंधन के वाहनों को भी लिया जाएगा।पेट्रोल और डीजल वाहनों का उपयोग न्यूनतम करने और वै​क​ल्पिक ईंधन वाहनों को प्रोत्साहन देने के लिए फेम एक बड़ा कदम होगा।

वा​हन निर्माता संगठन सायम ने पेट्रोल-डीजल के विकल्प बतौर नौ इंजन चिन्हित किए हैं। इनमें नेचुरल गैस, एलपीजी और हाइड्रोजन के अलावा एथनॉल, फ्लेक्स-फ्यूल सहित सिंथेटिक ईंधन भी हैं। शून्य उत्सर्जन के लिए बैटरी वाले और फ्यूल सेल वाहन प्राथमिकता पर हैं। फेम के पहले दो चरण में देश में ई वाहनों की स्वीकार्यता बढ़ाने में काफी सफलता मिली है, इसी के चलते ई वाहनों की वाहन बाजार में हिस्सेदारी 6 प्रतिशत तक पहुंची है। 2015 में फेम को पहले चरण में 900 करोड़ रुपये की रा​शि मिली थी। 2019 में योजना में स​ब्सिडी रा​शि 10,000 करोड़ रुपये कर दी गई। जिससे 10 लाख से ज्यादा वाहनों को स​ब्सिडी मिली है। इसमें ट्रकों को भी शामिल करने का प्रस्ताव है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *