June 22, 2024
Uncategorized

राम भारत के जनमानस के प्राण हैं, 22 जनवरी 500 वर्षों के संघर्ष के अंत का दिन , लोकसभा में बोले अमित शाह,

लोकसभा में अमित शाह ने कहा कि इस देश की कल्पना राम और रामचरित मानस के बिना नहीं की जा सकती . राम और रामचरित मानस भारत की जनता के प्राण हैं जो भी राम के बिना भारत की कल्पना करते हैं वो भारत को नहीं जानते , श्री राम करोड़ों लोगों के लिये आदर्श जीवन का प्रतीक है , इसीलिए उन्हें मर्यादा पुरुषोत्तम कहा गया है ।