May 27, 2024
मध्यप्रदेशमध्यप्रदेश चुनाव

क्या दिमनी में फंस गए केंद्रीय मंत्री तोमर?

भारतीय जनता पार्टी द्वारा अपने हैवीवेट प्रत्याशियों को चुनाव मैदान में उतारने के बाद से मध्य प्रदेश विधानसभा का चुनाव बेहद दिलचस्प हो गया है। दिल्ली की राजनीति करने के आदी हो चुके नेताओं को अचानक विधानसभा चुनाव में रण में उतारकर पार्टी ने सबको चौंका दिया। इनमें से कई नेता हैं, जो मुश्किल लड़ाई में फंस गए हैं। इन्हीं में से एक हैं, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, जो एमपी बीजेपी और खासकर ग्वालियर चंबल के कद्दावर नेता माने जाते हैं।
उन्हें आलाकमान ने मुरैना जिले की दिमनी विधानसभा सीट से मैदान में उतारा है। भिंड-मुरैना संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले तोमर को यहां कड़ी टक्कर मिल रही है। इस सीट से वर्तमान में कांग्रेस के रविंद्र सिंह तोमर विधायक हैं, जिन्हें कांग्रेस ने फिर से प्रत्याशी बनाया है। 2018 में यहां से सिंधिया समर्थक गिर्राज दंडोतिया विधायक बने थे। 2020 में वे बीजेपी में शामिल हुए और शिवराज सरकार में मंत्री भी बने। मंत्रीपद पर रहने के बावजूद उपचुनाव में उन्हें कांग्रेस के रविंद्र तोमर के हाथों शिकस्त का सामना करना पड़ा था.
बीजेपी ने इसी सीट को जीतने के लिए इस बार केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को मैदान में उतारा है। दिमनी विधानसभा सीट पर राजपूत और ब्राह्मण मतदाताओं का दबदबा माना जाता है। लेकिन इस बार दोनों प्रमुख पार्टियों के मतदाता राजपूत हैं, इसलिए केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर के लिए लड़ाई मुश्किल हो गई है। एक केंद्रीय मंत्री होने के नाते विधानसभा चुनाव लड़ने को क्षेत्र की जनता डिमोशन की तरह भी देख रही है। ऐसे में क्या केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर अपनी प्रतिष्ठा बचा पाएंगे, देखना दिलचस्प होगा.