December 1, 2023
ट्रेंडिंगताजा ख़बरेंदेश दुनियाबिजनेसराष्ट्रीय

सेलुलर ऑपरेटर्स और ओटीटी में खींचतान

दूरसंचार कंपनियों का कहना है कि ओटीटी प्लेटफार्म को उनसे अपने मुनाफे में से हिस्सा देना चाहिए क्योंकि ये जमकर डाटा इस्तेमाल करते हैं. इसी क्रम में सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ने ओटीटी के डेटा इस्तेमाल पर नजर रखने की बात कही है. सभी प्रमुख दूरसंचार कंपनियों से नेटवर्क पर अल्फाबेट, एमेजॉन, मेटा और नेटफ्लिक्स द्वारा ली जाने वाली बैंडविड्थ का डेटा देने को कहा है। सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ने रिलायंस जियो, भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया से कहा है कि वे अल्फाबेट, एमेजॉन, मेटा और नेटफ्लिक्स द्वारा ली जाने वाली बैंडविड्थ पर फोकस करें। एसोसिएशन का कहना है कि इसका मकसद सरकार सहित सभी हितधारकों को पूरी जानकारी देना है. मोटे तौर पर आकलन यह है कि हर नेटवर्क पर 80 प्रतिशत तक बैंडविड्थ का उपभोग ये चार उपयोगकर्ता कर रहे हैं. ओटीटी से दूरसंचार नेटवर्क का उपयोग करने के लिए दूरसंचार कंपनियां हिस्सा चाहती हैं। दक्षिण कोरिया की मिसाल भी दी जा रही है जहां अब अदालती लड़ाई के बाद समझौते के हालात हैं. यूरोपीय संघ में भी इस विषय पर चर्चा चल रही है कि ओटीटी प्लेटफार्म अपने हिस्से के खर्च तो वहन करें.