200 विधायकों के धरने के पीछे ताकतवर मंत्री? CM योगी के लिए खतरे की घंटी |

200 विधायकों के धरने के पीछे ताकतवर मंत्री? CM योगी के लिए खतरे की घंटी |

नंद किशोर विधानसभा में अपनी आवाज नहीं उठा पाए, जिसके बाद वह सदन में ही धरने पर बैठ गए और उनके समर्थन में बीजेपी के करीब 200 और विधायक भी धरने पर बैठ गए

उत्तर प्रदेश की विधानसभा में मंगलवार को जो हुआ वो सूबे की राजनीति की एक ऐसी घटना थी जिसे हमेशा याद रखा जाएगा. याद इस लिहाज से कि एक तरफ उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार भ्रष्टाचार और सुरक्षा के मुद्दे पर विधानसभा में सरकार की उपलब्धियां गिना रही थी, दूसरी तरफ बीजेपी के ही विधायक नंद किशोर गुर्जर अपनी सरकार से सवाल कर रहे थे कि आखिर क्यों उन्हें पुलिस और प्रशासन की तरफ से प्रताड़ित किया जा रहा है.

नंद किशोर गुर्जर गाजियाबाद के लोनी विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं. नंद किशोर विधानसभा में अपनी आवाज नहीं उठा पाए, जिसके बाद वह सदन में ही धरने पर बैठ गए और उनके समर्थन में बीजेपी के करीब 200 और विधायक भी धरने पर बैठ गए. शाम 6 बजे के बाद किसी तरह उन्हें न्याय का आश्वासन देकर विधानसभा से उठाया गया, लेकिन विधानसभा के इतिहास की ये अभूतपूर्व घटना अपने आप मे बहुत कुछ बयां कर गई.

विधायक के गंभीर आरोप

नंद किशोर बताते हैं कि इलाके के अधिकारी पूरी तरह से भ्रष्टचार में डूबे हैं और खुलेआम कहते हैं कि पहले की सपा-बसपा की सरकारों मे सरकारी कार्यो में चौबीस परसेंट का कमीशन चलता था और अब ये कमीशन अट्ठारह परसेंट हो गया है. ये बात उन्होंने बुधवार को सदन में भी कही.

विधायक के ये आरोप गंभीर भी हैं और सरकार की भ्रष्टाचार पर ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति पर धब्बा भी. लेकिन बात यहीं नहीं खत्म होती. बात इससे भी आगे बढ़ गई जब नंद किशोर गुर्जर को विधानसभा में ना बोलने देने पर बीजेपी के करीब 200 विधायक धरने पर बैठ गए. ये बेहद गंभीर इशारा है.

इससे कई सवाल उठते हैं जो योगी आदित्यनाथ के लिए बेचैनी का सबब हो सकते हैं. इस मामले में विपक्ष को किसी बड़ी योजना की बू आ रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *