भारत सरकार ने वायरस से लड़ने के लिए चीन को मदद का हाथ बढ़ाया.

भारत सरकार ने वायरस से लड़ने के लिए चीन को मदद का हाथ बढ़ाया.

दुनियाभर में खौफ फैलाने वाले कोरोना वायरस का असर चीन में रोजाना बढ़ता ही जा रहा है. हजारों लोग अभी तक अपनी जान गंवा चुके हैं और लाखों इससे प्रभावित हैं. इस बीच भारत ने इस वायरस के खिलाफ लड़ाई लड़ने में बड़ा कदम बढ़ाया है. भारत अगले हफ्ते वुहान में दवाईयों की सप्लाई भेजेगा, ताकि मरीजों की मदद की जा सके. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले ही चीन को मदद का प्रस्ताव दे चुके थे, जिसके बाद अब भारत सरकार ने ये कदम लिया है.

चीन में भारत के दूतावास की ओर से सोमवार दोपहर को ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी गई. India in China ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘भारत सरकार इस हफ्ते चीन में एक मेडिकल सप्लाई से भरपूर विमान भेजेगी, जो कि चीन में कोरोना वायरस (COVID-19) से लड़ने में मदद करेगा. जब ये विमान वापसी करेगा तो वुहान/हुबई पर मौजूद भारतीय नागरिकों को वापस भी लाएगा.’

आगे ट्वीट में लिखा गया है, ‘वुहान/हुबई में ऐसे कई भारतीय हैं जो देश वापस आना चाहते हैं और लगातार दूतावास के संपर्क में हैं. हम सभी भारतीयों से अपील करते हैं कि अगर आप इस फ्लाइट में वापस आना चाहते हैं तो तुरंत दूतावास से संपर्क करें’. भारत ने इससे पहले दो एयर इंडिया के प्लेन के जरिए अपने सैकड़ों छात्रों को चीन से वापस निकाला था.

पीएम मोदी ने दिया था मदद का प्रस्ताव

बता दें कि बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मसले पर चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को खत लिखा था. इस खत में वायरस की वजह से जान गंवाने वाले लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित की थी, साथ ही किसी भी तरह की मदद के लिए प्रस्ताव दिया था. पीएम मोदी की चिट्ठी के जवाब में चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा था कि भारत की ओर से मदद का प्रस्ताव देना हमारी दोस्ती को दिखाता है.

गौरतलब है कि कोरोना वायरस (COVID-19) ने दुनिया के 25 से ज्यादा देशों में अपना पैर पसार लिए हैं. चीन में कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों की संख्या 1700 के पार पहुंच गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *