नड्‌डा ने TMC को तिरपाल चोर बताया: भाजपा अध्यक्ष बोले- ममता जी, किसानों को अब मदद का क्या फायदा जब चिड़िया चुग गई खेत


अपने काफिले पर हमले के एक महीने बाद भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्‌डा शनिवार (9 जनवरी) को फिर बंगाल पहुंचे। बर्द्धमान में उन्होंने एक मुट्‌ठी चावल अभियान की शुरुआत की। इस मौके पर आयोजित सभा में उन्होंने ममता की तृणमूल कांग्रेस (TMC) को तिरपाल चोर बताया। दरअसल, अम्फान तूफान के समय लोगों को अस्थाई घर बनाने के लिए केंद्र ने तिरपाल भेजे थे। TMC के लोगों पर इन तिरपालों को अपने घर में रखने के आरोप लगे थे।

ममता बनर्जी पर तंज कसते हुए नड्‌डा ने कहा, ‘सुना है कि ममता जी ने प्रधानमंत्री को किसान सम्मान निधि के लिए पत्र लिखा है। मैं उनसे कहना चाहता हूं कि हमारी सरकार बनेगी और किसानों को किसान सम्मान निधि हम देंगे। ममता जी आपकी जमीन खिसक चुकी है, चिड़िया खेत चुग चुकी है।’

नड्डा के भाषण के प्रमुख बिंदु

  • मुझे आज यहां आकर अत्यंत हर्ष हो रहा है, जहां स्वामी विवेकानंद का लालन-पालन हुआ। गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर ने यहां देश को नई दृष्टि दी। श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने एक देश-एक विधान के लिए अपनी जान दे दी। उस मंदिर में भी गया, जहां चैतन्य महाप्रभु ने दीक्षा ली थी।
  • आज जब मैं आ रहा था तो देखा कि किस तरह से बड़ी संख्या में आप लोग आए। ये दिखाता है कि ममता का जाना निश्चित है और भाजपा का आना तय है। तालियों की गड़गड़ाहट बताती है कि बंगाल की जनता ने भाजपा के स्वागत का मन बना लिया है।
  • आज से लेकर 24 तारीख तक कार्यकर्ता 40 हजार ग्राम पंचायतों में जाकर सौगंध खाएंगे कि किसानों की लड़ाई भाजपा का कार्यकर्ता लड़ेगा। हम गांव-गांव में किसानों के साथ भोज करके तय करेंगे कि उनके साथ जो अन्याय हुआ है, उसके खिलाफ आवाज उठाएंगे और अगली सरकार का रास्ता साफ करेंगे। यहां से आवाज देंगे- मोदी जी आगे बढ़ो, किसान आपके साथ है।
  • ममता की सरकार और यूपीए की सरकार में किसानों के लिए बजट 24 हजार करोड़ हुआ करता था, हमने इसे एक लाख करोड़ कर दिया। MSP के लिए स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू की और इसे लागत का डेढ़ गुना कर दिया।
  • सुना है कि ममता जी ने प्रधानमंत्री को किसान सम्मान निधि के लिए पत्र लिखा है। मैं उनसे कहना चाहता हूं कि हमारी सरकार बनेगी और किसानों को किसान सम्मान निधि हम देंगे। ममता जी आपकी जमीन खिसक चुकी है, चिड़िया खेत चुग चुकी है।
  • तीन कृषि कानून किसानों को आजादी देते हैं। इससे किसान खुद कॉन्ट्रैक्ट कर सकता है। 29 राज्यों में 24वें स्थान पर बंगाल का किसान है। ये काम ममता जी की सरकार ने किया है। बंगाल में पानी की कमी नहीं है, लेकिन यहां कि आधी जमीन असिंचित है। ममता की सरकार बदलने के लिए हमें एक साथ जुटना होगा।
  • TMC का मतलब तिरपाल चोर। चिटफंड, नारदा, सारदा कई घोटाले हुए। यहां नए राजकुमार दिख रहे हैं। लेकिन जनता सबका मुंहतोड़ जवाब देगी। ममता हर बात में बोलती हैं- होबे न। अब भाजपा की सरकार आबे।
  • योजना बदल देने से लोगों के मन में प्रधानमंत्री के प्रति सम्मान कम नहीं होता। मोदी जी बंगाल के विकास के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं। प्रधानमंत्री ग्रामीम सड़क योजना को बंगाल सड़क योजना नाम दे दिया गया।
  • ममता जी कहती थीं कि हम मां, माटी, मानुष के लिए काम करेंगे, लेकिन वे तो टोलाबाजी, तानाशाही और तुष्टिकरण के लिए काम कर रही हैं। उनके शासन में तो अंतिम संस्कार के लिए पैसे देने पड़ रहे हैं।

सभा से पहले राधा गोविंद मंदिर में पूजा की
नड्डा ने बर्द्धमान पहुंचकर प्रसिद्ध श्रीराधा गोविंद मंदिर में पूजा की। इसके बाद वे सभा को संबोधित करने पहुंचे। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा पूरे राज्य में ऐसी 40 हजार सभाएं करेगी। यहां एक मुट्‌ठी चावल अभियान के तहत मंच पर ही उन्हें अनाज और सब्जियां भेंट की गईं। इस मुहिम के जरिए भाजपा ने राज्य के करीब 73 लाख किसानों से जुड़ने का टारगेट रखा है। नड्डा बंगाल में पार्टी की कोर कमेटी के साथ बैठक भी करेंगे। दोपहर में खाना खाने वे एक किसान परिवार के घर जाएंगे।

पिछले दौरे में काफिले पर हमला हुआ था
नड्डा पिछले महीने भी बंगाल के दौरे पर गए थे। इस दौरान उनके काफिले पर हमला हो गया था। इसका आरोप तृणमूल कांग्रेस (TMC) के समर्थकों पर लगा था। इससे बंगाल की सियासत गरमा गई थी। इससे केंद्र-राज्य सरकार के बीच भी तनातनी बढ़ गई थी। इस दौरे के कुछ दिन बाद नड्डा कोरोना पॉजिटिव भी हो गए थे।

गवर्नर जगदीप धनखड़ अमित शाह से मिलने पहुंचे
इस बीच, बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ आज केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ मुलाकात कर रहे हैं। इसके लिए वह शुक्रवार शाम को दिल्ली पहुंच गए थे। उन्होंने बताया था कि यह सामान्य मुलाकात है। वह राज्य के मसलों पर गृह मंत्री के साथ बातचीत करेंगे। सात जनवरी को धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ भी बैठक की थी। पश्चिम बंगाल में इस साल अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव हो सकते हैं।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *